Type Here to Get Search Results !

Remember 7 Things before buy new mobile नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले इन 7 बातों का रखें ध्यान Ragecore.in

नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले इन 7 बातों का  रखें ध्यान

 हेलो दोस्तों आपका एक बार फिर से स्वागत है एक और नयी पोस्ट मे और आज हम बात करने वाले है कि अगर आप नया या फिर कोई सा भी मोबाइल खरीदते है तो कोन कोन सी बातो का ध्यान रखना चाहिए। अगर आप जानना चाहते है तो पोस्ट को पढते  रहिए। क्योकि  त्यौहारों का मौसम आ चुका है। पूरे देश में फेस्टिवल की जगमगाहट है और स्मार्टफोन बाजार में इस रोशनी में नहाया हुआ है। सभी टेक कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स पर ​डिस्काउंट व छूट दे रही हैं तथा ऑनलाईन शॉपिंग साइट्स से लेकर ऑफलाईन रिटेल स्टोर्स तक तरह-तरह के आर्कषक ऑफर्स पेश किए जा रहे हैं। आप और हम जैसे अनेकों लोग हैं जो नया मोबाइल फोन खरीदने के लिए इसी मौके का इंतजार करते हैं। इन दिनों ढ़ेरों फायदेमंद ऑफर भी मौजूद है और स्मार्टफोंस भी कम दामों में मिल रहे हैं। लेकिन ऐसे अवसर पर नया स्मार्टफोन खरीदने से पहले कुछ ऐसी अहम बातें भी है, जिनका ध्यान रखना बेहद जरूरी है। एक लापवरवाही आपका और आपके ​परिवार का त्यौहार का मज़ा किरकिरा कर सकती है।


∆ आपको क्या चाहिए पहचानें ∆

मोबाइल फोन अब सिर्फ कॉलिंग और मैसेज भेजने के लिए नहीं रह गए हैं। बल्कि आज के समय में प्रोफेशन व नौकरी से संबंधित काम भी स्मार्टफोन से होते हैं। ऐसे में नया स्मार्टफोन लेने से पहले डिसाईड कर लें कि आपको फोन में किस चीज की जरूरत ज्यादा है। कैमरा, प्रोसेसिंग, लंबा बैटरी बैकअप, ज्यादा इंटरनल स्टोरेज और बड़ी डिसप्ले कुछ ऐसे प्वाइंट्स हैं जो हर इंसान की जरूरत में शामिल होते हैं। बाजार में कैमरा सेंट्रिक स्मार्टफोन, बड़ी बैटरी व लार्ज डिसप्ले वाला मोबाइल, फास्ट प्रोसिंग के लिए बना डिवाईस सभी मौजूद है। इसलिए पहले अपनी जरूरत को पहचानें और फिर स्मार्टफोन को चुनें। यहां दोस्तों की लुभावनी बातों से और शो-ऑफ करने के बचेंगे तो जेब खाली नहीं होगी

 ∆ फास्ट प्रोसेसिंग ∆

मोबाइल गेमिंग के शौकिन और मल्टी-टास्किंग करने वाले यूजर्स चाहते हैं, कि उन्हें ऐसा फोन मिले जो बिना लैग व हैंग की शिकायत के स्मूथली काम करता रहे। यहां आपको बता दें कि फोन में बेहतर प्रोसेसिंग के​ लिए उसमें मौजूद चिपसेट और रैम मैमोरी दोनों को देखना होगा। क्वॉलकॉम, मीडियाटेक, किरीन व आईओएस कुछ ऐसे प्लेटफॉर्म है जो फोंस में चिपसेट मुहैया कराते हैं। वहीं साथ ही प्रोसेसर्स के साथ गेमिंग टेक्नोलॉजी भी फोन दी जाती है। यहां फोन में मौजूद जीपीयू को भी चेक करना होगा। एंडरॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम और ब्रांड का यूजर इंटरफेस भी कुछ हद तक स्मूथ प्रोसेसिंग में मदद करता है। इस सभी बिंदुओं का ध्यान रखना भी जरूरी है।

∆ पावरफुल बैटरी ∆

बहुत ये ऐसे यूजर्स हैं जो चाहते हैं कि एक बार फोन फुल चार्ज करने के बाद लंबे समय तक दुबार उसे चार्जर में लगाते की जरूरत न पड़ें। आज भारतीय बाजार में 6,000एमएएच बैटरी वाले कई स्मार्टफोन लॉन्च हो चुके हैं तथा 4,000एमएएच से 5,000एमएएच बैटरी आपको सभी ब्रांड्स के स्मार्टफोंस में मिल जाएगी। लेकिन यहां बड़ी बैटरी वाला फोन खरीदने से पहले उसमें मौजूद फास्ट चार्जिंग तकनीक को भी परखना जरूरी है। बता दें कि फोन जितने वॉट की फास्ट चार्जिंग सपोर्ट करता है, जरूरी नहीं उसके रिटेल बॉक्स में उतने वॉट का चार्जर भी साथ मिले। ऐसे में चार्जर के लिए अलग से पैसे देने पड़ सकते हैं। हमारी सलाह कि हमेशा फोन के साथ ब्रांड का ओरिजनल चार्ज ही यूज़ करें।

∆ कैमरा को देखे ∆

यदि आपकी जरूरत या शौक में फोन फोटोग्राफी व रिकॉर्डिंग शामिल है तो कैमरा सेंट्रिक स्मार्टफोन की ओर रूख करें। आज बाजार में 6 कैमरा सेंसर्स वाले मोबाइल्स से लेकर 108 मेगापिक्सल की पावर वाले स्मार्टफोंस भी बाजार में आ चुके हैं। लेकिन यहां सिर्फ कैमरा सेंसर्स की गिनती या हाई मेगापिक्सल पावर की काफी नहीं होगी। ज्यादा सेंसर अच्छी फोटोग्राफी का वायदा नहीं करते हैं। यहां आपको वाइड एंगल लेंस की क्षमता, ज़ूम पावर, टेलीफोटो लेंस, मैक्रो लेंस, डेफ्थ सेंसर इत्यादि को समझना होगा वहीं साथ ही ओआईएस, ईआईएस, एचडीआर, 4के-8के रिकॉर्डिग, स्लो-मो जैसे फीचर्स को भी परखना होगा। साथ डुअल एलईडी या क्वॉड फ्लैश लाईट जैसे ऑप्शन भी आपके काम आएंगे।

∆ ज्यादा स्टोरेज ∆

वो समय आपको भी याद होगा जब मोबाइल में गानें बजाने और वीडियो चलाने के लिए माइक्रोएसडी कार्ड को अलग से भरवाकर फोन में डाला जाता था। ​स्मार्टफोन की तकनीक बदलने के साथ यह चलन भी दफन हो चुका है। आज मोबाइल फोंस में ही 32जीबी से लेकर 128जीबी स्टोरेज आम हो चुकी है। स्मार्टफोन कंपनियां भी एक ही फोन के एक से अधिक रैम व स्टोरेज वेरिएंट लॉन्च करती है, जो यूजर्स के लिए आसान च्वाइस बन जाते हैं। बेहद कम लोग फोन में एक्स्ट्रनल कार्ड का यूज़ करते हैं। तो ऐसे में ‘1टीबी एक्सपेंडेबल’ स्टोरेज जैसी बातों पर न जाइए और बड़ी इंटरनल स्टोरेज वाले स्मार्टफोन को ही घर लाइए। बड़ी स्टोरेज के साथ ही UFS यानि यूनिवर्सल फ्लैश स्टोरेज पर ध्यान देना भी जरूरी है। यूएफएस उस फोन में फाईल ट्रांसफर की स्पीड को सेट करती है, कि कितनी तेजी से डाटा इर्पोट-एक्पोर्ट होगा।

∆ बड़ी डिसप्ले ∆

देश में कोरोना से प्रकोप और लॉकडाउन ने तकनीक का मानें एक अलग ही चरण खोल दिया है। दफ्तर के काम से लेकर स्कूल की पढ़ाई तक सभी ऑनलाईन होने लगे। जो अभिभावक ज्यादा फोन यूज़ करने पर बच्चों को डॉंटते थे, आज वहीं अपने बच्चों के लिए नया मोबाइल खरीद रहे हैं। ऐसे लोगों की जरूरत है बड़ी डिसप्ले वाले स्मार्टफोन जिससे ऑनलाईन पढ़ाई में परेशानी न आए। स्मार्टफोंस में 6 इंच की स्क्रीन आम हो चुकी है। लेकिन बड़ी डिसप्ले के साथ ही ​उसकी पिक्सल रेज्ल्यूशन (HD, FHD, FHD+), डिसप्ले टेक्नोलॉजी (LCD, LED, OLED, AMOLED) और ब्राइटनेस व कॉट्रास्ट निट्स देखना भी जरूरी है। यूज़ के दौरान ऑंखों को नुकसान न हो इसके लिए P3 जैसी तकनीक स्मार्टफोंस में आने लगी है।

∆ बजट करें सेट ∆

मार्केट में एंट्री लेवल फोन के लेकर फ्लैगशिप डिवाईस तक सभी सेग्मेंट्स में ढ़ेरों ऑप्शन्स मौजूद है। यह सच है कि 10,000 रुपये की रेंज में आइडिल स्पेसिफिकेशन्स से लैस स्मार्टफोन आसानी से मिल जाता है। वहीं 11,000 से 19,000 तक के बजट में लेटेस्ट फीचर्स से लैस डिवाईस उपलब्ध है। 20,000 से 35,000 रुपये के सेग्मेंट में आज पावरफुल स्पेसिफिकेशन्स से लैस स्मार्टफोन लॉन्च किए जा चुके हैं। वहीं इससे उपर के बजट पर गौर करेंगे तो पाएंगे कि सभी स्मार्टफोंस में स्पेसिफिकेशन्स लगभग एक जैसी ही मिलेगी। इस सेग्मेंट में ब्रांड वैल्यू का ज्यादा जोर रहता है। ध्यान रहे, ऐसा नहीं है कि ज्यादा पैसा लगाएंगे तो ही बेहतर फोन मिलेगा। कम कीमत पर भी शानदार ऑप्शन मिल जाते हैं। ऐसे में नया स्मार्टफोन खरीदने के दौरान अपने बजट के हिसाब से ही पैसा खर्च करें। महंगा फोन लेने के चक्कर में त्यौहार ने ​फीका हो जाए।

तो यह थी कुछ जानकारी मुझे उम्मीद है कि शायद आपको पोस्ट पसंद आई होगी अगर पोस्ट अच्छी लगी तो पोस्ट को शेयर जरूर करें तो प्यार के लिए इस पोस्ट में इतना ही बहुत-बहुत धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Sponsored